Sahara India Pariwar Refund Update : सहारा इंडिया बड़ी खबर, जानिए कैसे मिलेगा पैसा।

Sahara India Pariwar Refund Update

 

Sahara India Pariwar Refund 

Table of Content hide

एक बड़ी खबर आ रही है सहारा इंडिया निवेशकों के लिए। यह खबर रिफंड पोर्टल के माध्यम से पहुंच रही है। Sahara India Pariwar Refund सहारा रिफंड पोर्टल पर वे लोग क्लेम कर सकते हैं जिन्होंने अपने पैसे के लिए आवेदन किया है, लेकिन अभी तक उन्हें पेमेंट नहीं मिला है या फिर पेमेंट फेल हो गया है। सहारा इंडिया रिफंड पोर्टल के माध्यम से लोगों को इस बारे में सूचित किया गया है। इस विषय में अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए, आइए हम पूरी खबर को विस्तार से समझें।

Sahara India Pariwar Refund: सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद निवेशकों के पैसे की प्रक्रिया शुरू

Sahara India Pariwar Refund : एक बड़ी खबर आ रही है! सहारा रिफंड पोर्टल (SaharaIndia PariwarRefund Portal) के माध्यम से लोगों को सूचित किया गया है कि अब वे वापसी के लिए 19999 तक के क्लेम के लिए फिर से सबमिशन कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त, अन्य पत्र दावों की तारीख की घोषणा जल्द ही होगी। दोबारा सबमिट किए गए दावों पर 45 कार्य दिवसों के भीतर कार्रवाई की जाएगी।

यह खबर उस अवसर के बारे में है जब केंद्र सरकार को अभी तक निवेशकों के लिए 5000 करोड़ रुपए का पैसा मिला है। सहारा इंडिया की सहकारी समितियों में फंसे 80000 करोड़ रुपए वापस लेने की मांग की गई है।

इसके अलावा, मोदी सरकार अब सुप्रीम कोर्ट से और पैसा पानी के लिए गुहार लगा रही है। सुप्रीम कोर्ट के तरफ से चुनाव से पहले नवीनतम आदेश की घोषणा होने वाली है। लेकिन यह काम अब तक विफल है।

सरकार ने राज्यसभा में बताया कि सहारा समूह में 1.13 करोड़ निवेशक हैं, जिनका 5000 से कम की रकम जमा की गई है। इस रिफंड के लिए कुल 2793 करोड़ रुपए की आवश्यकता है।

यह समाचार बेहद महत्वपूर्ण है और इसका बड़ा प्रभाव हो सकता है।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद Sahara India Pariwar Refund प्रक्रिया किस तरह से अग्रसर हो रही है?

बीएल वर्मा जी ने राज्यसभा में पूरक प्रश्नों के उत्तर में स्पष्टता से बताया कि सहारा समूह से अधिक धनराशि पाने के लिए उन्होंने फिर से सुप्रीम कोर्ट की ओर रुख किया है। बीएल वर्मा जी ने बताया कि सहकारिता मंत्रालय ने निवेशकों के लिए एक पोर्टल लॉन्च किया है, जहां निवेशक अपने फंसे पैसे पाने के लिए आवेदन कर सकते हैं।

इस दौरान उन्होंने बताया कि अब तक 3 करोड़ निवेशकों ने पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करवाया है, और 45 दिनों में निवेशकों के पैसे लौटाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। उन्हें 5000 करोड़ रुपए अभी तक मिल पाए हैं।

सहारा इंडिया, सुप्रीम कोर्ट और सहकारिता मंत्रालय के बीच की हकीकत यह है कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद सहारा ने सेबी सहारा रिफंड खाते में 15000 करोड़ रुपए से अधिक जमा करवाए थे, जिसमें ब्याज के साथ 24000 करोड़ रुपए हो गए हैं। कोर्ट के आदेश के बाद सहारा ने अधिक धनराशि को सहारा सेबी रिफंड खाते में जमा करवाया, जिसमें 24,5000 करोड़ रुपए हो गए हैं।

इस संदर्भ में, सहारा सेबी रिफंड खाते से अब तक केवल 133 करोड़ रुपए ही रिफंड किया गया है।

बीएल वर्मा जी ने राज्यसभा में यह स्पष्ट किया कि सहारा समूह के निवेशकों के साथ सरकारी संस्थानों और न्यायिक प्रक्रिया के माध्यम से उनकी मदद की जाएगी।सहारा इंडिया का पैसा का आगे क्या होगा?
अगर सुप्रीम कोर्ट के द्वारा पैसे देने का आदेश जारी करता है तो सहारा की कुछ निवेशकों को राहत मिल सकता है। सहारा रिफंड के लिए दावेदार की संख्या और रकम को देखते हुए 2024 के लोकसभा चुनाव के पहले पैसा मिलना मुश्किल नजर आ रहा है।

Sahara India Pariwar Refund प्रक्रिया के दौरान निवेशकों को निम्नलिखित प्रकार की सहायता उपलब्ध है:

  • आवेदन प्रक्रिया की मदद: निवेशकों को सहारा इंडिया रिफंड पोर्टल पर आवेदन करने की प्रक्रिया में मदद मिलती है। यहां प्रक्रिया को समझाने और अपने आवेदन को सही तरीके से पूरा करने में मदद मिलती है।
  • जानकारी प्रदान करना: निवेशकों को अपने निवेश के संबंध में जानकारी प्रदान की जाती है। वे अपने निवेश की स्थिति को ट्रैक कर सकते हैं और अगर कोई समस्या हो, तो उसका समाधान भी होता है।
  • संपर्क स्थापित करना: निवेशकों को सहारा इंडिया के प्रतिनिधित्व से संपर्क स्थापित करने में मदद मिलती है। यह उन्हें किसी भी संदेह या समस्या के समाधान के लिए सही दिशा में मदद करता है।
  • प्रावधानिक सलाह: निवेशकों को उनके निवेश पर विशेषज्ञ सलाह भी उपलब्ध है। वे अपने निवेश के बारे में बेहतर निर्णय लेने में मदद करते हैं और उन्हें सही दिशा में ले जाते हैं।
  • आवश्यक दस्तावेज़ सुप्तित करना: निवेशकों को अपने आवश्यक दस्तावेज़ों की सहायता भी मिलती है। यह उन्हें अपने आवेदन को प्रस्तुत करने में सहायक होती है।
  • सहारा इंडिया रिफंड प्रक्रिया के दौरान निवेशकों को इन सर्विसेज़ का उपयोग करके उन्हें अपने निवेश को लेकर संबंधित किसी भी समस्या का समाधान करने में सहायता मिलती है।

 

Sahara India Pariwar Refund पोर्टल क्या है?

  • सहारा इंडिया रिफंड (Sahara India Refund ) पोर्टल एक ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म है जहां निवेशक अपने फंसे पैसे के लिए आवेदन कर सकते हैं।

पैसा कैसे रिफंड होगा?

  • पैसा सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार रिफंड होगा। निवेशकों को अपने आवेदन के बाद प्रक्रिया की अधिक जानकारी सहारा इंडिया रिफंड पोर्टल पर मिलेगी।

क्या निवेशकों को अभी तक पैसा मिला है?

  • हां, केंद्र सरकार ने अभी तक निवेशकों को 5000 करोड़ रुपए का पैसा दिया है, और प्रक्रिया जारी है।

सहारा इंडिया रिफंड पोर्टल (Sahara India Pariwar Refund ) पर कितने लोगों ने आवेदन किया है?

  • अब तक लगभग 3 करोड़ निवेशकों ने पोर्टल पर आवेदन करवाया है।

रिफंड प्रक्रिया कितने समय में पूरी होगी?

  • निवेशकों के पैसे लौटाने की प्रक्रिया 45 दिनों में पूरी हो जाएगी।

Sahara: Refund apply कैसे करें

Sahara: Refund apply कैसे करें?

 

 

 

 

निवेशकों को अपनी पहचान, निवेश के प्रमाणपत्र, और अन्य संबंधित दस्तावेज़ों को पोर्टल पर जमा करने की आवश्यकता होगी।
क्या निवेशकों को कितने पैसे मिलेंगे?

पैसे सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार मिलेंगे, जिसमें उनके निवेश की राशि और ब्याज शामिल हो सकता है।
क्या यह सुप्रीम कोर्ट के आदेश के तहत है?

हां, सहारा इंडिया रिफंड प्रक्रिया सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार हो रही है।
निवेशकों को रिफंड प्रक्रिया के दौरान किस प्रकार की सहायता मिलेगी?

निवेशकों को सरकारी संस्थानों और न्यायिक प्रक्रिया के माध्यम से सहायता मिलेगी ताकि उनके पैसे लौटाए जा सकें।
पैसे कब तक मिलेंगे?

सहारा इंडिया रिफंड प्रक्रिया जारी है, लेकिन निवेशकों को पैसे मिलने की तारीख सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद तय होगी।
यह थे कुछ सामान्य प्रश्न और उनके उत्तर सहारा इंडिया रिफंड प्रक्रिया के बारे में। यदि आपका कोई और प्रश्न है तो आप सहारा इंडिया रिफंड पोर्टल पर जाकर अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

 

 

 

3 thoughts on “Sahara India Pariwar Refund Update : सहारा इंडिया बड़ी खबर, जानिए कैसे मिलेगा पैसा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *